आखिर क्यों स्कूल टाइम में अपने बाप का नाम लेने से भी शरमाते थे करण जौहर, सामने आई सच्चाई

आखिर क्यों स्कूल टाइम में अपने बाप का नाम लेने से भी शरमाते थे करण जौहर, सामने आई सच्चाई

बॉलीवुड को रोमांटिक फिल्मों का तोहफा देने वाले और हर जवान दिल को धड़कना सिखाने वाले करण जौहर को आज किसी इंट्रोडक्शन की जरूरत नहीं है। दोस्तों आपने अक्सर ही सुना होगा की उम्र तो सिर्फ एक नंबर है लेकिन इस कहावत का जीता जागता रूप करण जौहर को कहा जा सकता है। जी हां 51 साल की उम्र में भी करण बेहद स्टाइलिश और डेशिंग दिखते हैं। उनका ड्रेसिंग सेंस अच्छे-अच्छे को अट्रैक्ट कर लेता है।

करण जिन्हें केजो के नाम से भी जाना जाता है वह पहले से ही फिल्मी दुनिया से तालुकात रखते हैं। उनके पिता यश जौहर भी एक जाने-माने डायरेक्टर हुआ करते थे। उनकी मां का नाम रुही जोहर था। हालांकि करण ने शादी नहीं की लेकिन वह दो बच्चों के बाप हैं। बता दें कि वह सरोगेसी के माध्यम से ही पिता बने थे। वह जुड़वा बच्चों के पिता हैं। उन्होंने अपने बेटा और बेटी का नाम अपने माता पिता के नाम पर रखा है।

कर्ण का जन्म साल 1972 में मुंबई शहर में हुआ था। शुरुआत से ही वह फिल्म निर्माता बनना चाहते थे। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत शाहरुख खान की फिल्म ”कुछ कुछ होता है” से की थी। उनकी पहली ही फिल्म ऑल टाइम ब्लॉकबस्टर हिट गई थी। उसके बाद भी उन्होंने कई हिट फिल्में दी जिसके कारण बॉलीवुड में उनका कैरियर बुलंदियों तक पहुंचता गया।

लेकिन दोस्तों क्या आप जानते हैं करण जौहर की जिंदगी में एक समय आया था जब वह अपने बाप का नाम लेने से भी शरम आया करती थी। जी हां जब कर्ण के पिता यश ने यादों की बारात फिल्म बनाई थी जो बॉक्स ऑफिस पर बिल्कुल फ्लॉप गई थी। उसके बाद करण को ऐसा लगने लगा था कि उनके पिता लोग हैं और वह अपने पिता का नाम बताने से भी शर्माने लगे थे। बाद में कर्ण ने एक इंटरव्यू में बताया था कि वह समय उनके पिता के शक्ल का समय था।

लेकिन एक बार अमित थडानी को जब करण ने यह बताया कि अग्निपथ उनके पिता ने बनाई है। तब नाम लेने से पहले ही उन्होंने उस फिल्म की इतनी ज्यादा तारीफ कर दी कि उसके बाद करण को अपने पिता का नाम लेने में भी गर्व महसूस होने लगा।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.