सिद्धार्थ शुक्ला की मौत को स्वीकार नहीं कर पाईं निया शर्मा, बोलीं- हम किस चीज के पीछे भाग रहे हैं?

सिद्धार्थ शुक्ला की मौत को स्वीकार नहीं कर पाईं निया शर्मा, बोलीं- हम किस चीज के पीछे भाग रहे हैं?

निया शर्मा (Nia Sharma) ने बताया कि सिद्धार्थ शुक्ला (Sidharth Shukla) की मौत की खबर सुनकर वह 20 मिनट तक रोती रही थीं। उन्हें लगा मानों दुनिया ही खत्म हो गई हो। निया ने बताया कि सिद्धार्थ की मौत के बाद वह यह सोचने पर मजबूर हो गई थीं कि आखिर हम किसके पीछे भाग रहे हैं? नेम और फेम का क्या मतलब है?

ऐक्ट्रेस निया शर्मा (Nia Sharma) ने कोरोना महामारी के बीच बहुत काम खोया। लेकिन उन्होंने कभी इसकी शिकायत नहीं की। वह इसी आस में रहीं कि एक न एक दिन सब ठीक होगा। लेकिन निया शर्मा को उस वक्त बड़ा झटका लगा जब उन्होंने सिद्धार्थ शुक्ला (Sidharth Shukla) की मौत की खबर सुनी। निया सिद्धार्थ को निजी तौर पर नहीं जानती थीं, लेकिन उनकी अचानक मौत की खबर ने ऐक्ट्रेस को बुरी तरह झकझोर दिया।

निया शर्मा ने हाल ही इस बारे में ‘हिंदुस्तान टाइम्स’ को दिए इंटरव्यू में बात की और बताया कि सिद्धार्थ शुक्ला की मौत के बाद उन्हें दौलत-शोहरत और नेम-फेम सब फिजूल लगने लगा था। लगने लगा था जैसे दुनिया खत्म हो गई हो।

‘हम किसके पीछे भाग रहे हैं? शोहरत का क्या मतलब?’

निया शर्मा ने बताया कि वह एक रियलिटी शो (बिग बॉस ओटीटी) में एक दिन के लिए गई थीं। बाहर आने पर वह यह सोचकर ऐक्साइटेड थीं कि शो में उनका स्टिंट कमाल का रहा, पर तभी उन्हें सिद्धार्थ शुक्ला की खबर मिली। निया रोने लगीं। वह बोलीं, ‘मुझे जोर का धक्का लगा। मैं 20 मिनट तक लगातार रोती रही। ऐसा लगा मानो दुनिया खत्म हो गई हो। मुझे नहीं पता कि वह किस बारे में था? हम किसके पीछे भाग रहे हैं? शोहरत का क्या मतलब है? इस तरह के सवालों से मेरा दिमाग फटा जा रहा था। उसे स्वीकार करना आसान नहीं था।’

‘किसी की मौत पर दो सेकंड का फेम पानी की कोशिश गलत’

निया शर्मा को यह बात बहुत खटकी कि सिद्धार्थ शुक्ला की मौत के तुरंत बाद ही लोगों ने रिऐक्ट करना शुरू कर दिया। निया शर्मा का मानना है कि उसकी बिल्कुल भी जरूरत नहीं थी। उन्होंने कहा, ‘जिस इंसान की मृत्यु हो गई है, उसके करीबियों को शांति से शोक मनाने दो। किसी की मौत पर दो सेकंड का फेम पाने की कोशिश मत करो। मैं बात कर रही हूं कि किस तरह किसी की मौत को मीडिया में कवर किया जाता है। उसके परिवार पर क्या बीत रही होगी।’

‘सिद्धार्थ फेमस नहीं होता तो लोग इतनी परवाह करते?ट

निया ने आगे कहा, ‘मैं सोचती हूं कि अगर वह एक फेमस ऐक्टर नहीं होता तो क्या लोग परवाह करते? क्या तब भी वो उसकी मौत के बारे में बातें करते? दुख की बात है कि सारी दुनिया, मीडिया और हम लोग इसी तरह चलते हैं। सिद्धार्थ शुक्ला बहुत बड़े स्टार थे। उन्होंने लाखों लोगों के दिलों पर राज किया और खूब शोहरत पाई। उनके लिए हर कोई रोया। हर कोई उन्हें कवर करना चाहता था, लेकिन इस चक्कर में कुछ चीजें हद से आगे बढ़ गईं। कई असंवेदनशील टिप्पणियां की गईं, जिनसे बचा जा सकता था। हमें खुद को बदलने और बेहतर होने की जरूरत है।’

निया बोलीं- आज जिंदा रहना जरूरी, काम तो आ जाएगा

निया शर्मा ने यह भी बताया कि कोरोना महामारी के बीच उनके हाथ से बहुत सारे प्रॉजेक्ट्स और काम निकल गया, लेकिन वह उन चीजों की कद्र करना सीख गई हैं, जो उनके पास पहले से हैं। इसीलिए उन्होंने खोई हुई चीजों या काम को लेकर कभी कुछ शिकायत नहीं की। वह बोलीं, ‘आज जिंदा रहना जरूरी है। कोई प्रॉजेक्ट खोने पर मैं रो नहीं सकती। भगवान की कृपा से काम और आ जाएगा। मेरे जानने वालों में हर किसी ने अपनों को खोया है। लेकिन आप इस कड़वी सच्चाई और दिल में गम लिए जीने के सिवाय और क्या कर सकते हैं। एक इंसान को मूव ऑन करना पड़ता है।’

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.